Politics

मंडी लोकसभा सीट पर जयराम की साख दांव पर

राजनीतिक डेस्क | November 27, 2018 01:07 PM

शिमला : लोकसभा चुनाव 2014 में मोदी लहर के चलते हिमाचल की चारों सीटें भाजपा की झोली में गई लेकिन आगामी लोकसभा चुनाव प्रदेश भाजपा के लिए नाक का सवाल बन गया है। वहीं, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के लिए मंडी लोकसभा सीट साख का सवाल बन गई है।

तब : 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के चलते हिमाचल की चारों सीटें जीत ली थी। हालांकि उस वक्त हालात विपरीत थे। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार सत्ता में थी। हिमाचल का राजनीतिक इतिहास रहा है कि जिस भी दल की प्रदेश में सरकार हो, लोकसभा चुनाव में उसका पलड़ा ही भारी रहा है। लेकिन, 2014 के लोकसभा चुनाव में यह मिथ टूट गया। मोदी लहर में बहते हुए सूबे की जनता ने प्रदेश की सत्ता को दरकिनार करते हुए हिमाचल की चारों सीटें भाजपा की झोली में डाली। यहां तक कि कांग्रेस के लिए सबसे सुरक्षित सीट मानी जा रही मंडी से तत्कालीन मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की धर्मपत्नी प्रतिभा सिंह को भी हार का सामना करना पड़ा। यह बहुत बड़ा उलटफेर था।

अब : हिमाचल के सियासी हालात बदल चुके हैं। प्रदेश में प्रचंड बहुत के साथ भाजपा की सरकार सत्तासीन और मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के पास कमान है, ऐसे में उनके सामने अगले लोकसभा चुनाव को लेकर चुनौतियों का पहाड़ है। मंडी सीट पर बर्चस्व बनाए रखना मुख्यमंत्री के लिए सबसे बड़ी चुनौती बनी है। मंडी संसदीय सीट से वर्तमान सांसद रामस्वरूप शर्मा के चलते भाजपा की डगर आसान नहीं है। सूत्र बताते हैं भाजपा के आंतरिक सर्वे में मौजूदा सांसद का ग्राफ काफी गिर गया है। 

सियासी जानकार बताते हैं कि शायद इसीलिए जयराम ठाकुर मंडी में भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं के दौरे करवा रहे हैं ताकि अगले लोकसभा चुनाव में मंडी सीट किसी भी कीमत पर भाजपा की झोली में डाली आ सके। सियासी हलकों में यह भी चर्चा है इस सीट को जितने के लिए वह किसी भी कीमत पर, कोई भी दांव खेल सकते हैं।

हालांकि, कांगड़ा सीट से अगर भाजपा वर्तमान सांसद शांता कुमार को चुनाव में उतारती है तो इसके लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की जिम्मेदारी नगण्य रहेगी, क्योंकि शांता कुमार का अपना एक अलग रुतबा है और यहां हार और जीत जयराम ठाकुर के लिए ज्यादा मायने नहीं रखती। यह भी जानकारी मिल रही है कि आने वाले दिनों में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मंडी संसदीय क्षेत्र में एक बड़ी रैली कर सकते हैं। 

Have something to say? Post your comment